ख़ुशी, रंज

ख़ुशी को बस उम्मीद का आसरा चाहिए

चाँद को बस एक शब-ए-चाँदनी

आशिक़ को एक रोज़-ए-दीदार चाहिए ।

 

रंज के लिए बस एक ख़ुदगर्ज़ महबूब चाहिए

चाँदनी को बस चाँद का तव्वजो

माशूक़ को आशिक़ के दिल का क़रार चाहिए ।

 

 

 

1 thought on “ख़ुशी, रंज”

  1. चाँदनी को बस चाँद का तव्वजो

    माशूक़ को आशिक़ के दिल का क़रार चाहिए ।

     

    Bahut acchi line hai..

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s