शमा

कह दो उन शमाओं से जो परवानों के इंतज़ार में जल रही हैं

कि अब इस परवाने ने शमा के लिए जलना छोड़ दिया है

है नूर-ए-इलाही नहीं यह आतिश-ए-दोज़ख

अब हमने दोज़ख में जन्नत बसाने का ख़्वाब छोड़ दिया है ।

 

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

w

Connecting to %s