ये संघर्ष के दिन भी बीत जाएँगे

भरोसा रख ऐ दिल

ख़ुद पर और ज़िन्दगी पर —

ये संघर्ष के दिन भी बीत जाएँगे ।

 

खुल जाएँगी सड़कें एक बार फिर

उनपर लोग वापस उमड़ आएँगे ।

 

हो जाएगी चहल-पहल फिर से इर्द-गिर्द

दोस्तों के साथ मिलकर हम फिर जश्न मनाएँगे ।

 

दुनिया में आना और दुनिया से जाना

यह हमारे हाथ में कब था ?

जो चले गए हैं हमारे बीच से वे फिर एक दिन

वापस हमारे बीच लौट आएँगे ।

 

आए हैं संकट कई बार पहले भी

मची है तबाही सर-ए-आम पहले भी

पर है इंसान की फ़ितरत में गिरकर सँभलना

तो ये डगमगाते क़दम भी जल्द सँभल जाएँगे ।

 

भरोसा रख ऐ दिल

ख़ुद पर और ज़िन्दगी पर —

ये संघर्ष के दिन भी बीत जाएँगे ।

 

 

 

3 thoughts on “ये संघर्ष के दिन भी बीत जाएँगे”

  1. Neha Ji bahut hi Sundar Kavita aur Hriday sparshi avam sakaratmak vichar prastut kiye hai aapne. Really we need such positivity from everywhere to fight with this difficult time. Appreciated and stay safe. 👍

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s