दोस्ती

गुज़र चुके हैं जुनून-ए-इश्क़ से कई बार मगर

दोस्ती का सुकून बरसों बाद मिला है

अंगारों पर चल-चलकर जो ज़ख़्म बटोरे थे

आज एक अरसे बाद उनपर मरहम लगा है

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s